» Meaning of Gayatri Mantar in Hindi
 

 

ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेन्यं ।
भर्गो देवस्य धीमहि, धीयो यो न: प्रचोदयात् ।।
 
ॐ - स्वर जो अध्यात्म से भरा है। देवों के देव।
भू - धरती या भूमी
र्भुवः - वातावरण
स्वः - वातावरण के अलावा, स्वर्ग
तत् - वो
सवितुर - सूर्य या तेजोमय
वरेण्यं - नमन करने लायक
भर्गो - महत्ता या शक्ति
देवस्य - भगवान
धीमहि - ध्यान करना
धियो - ज्ञान
यो - कौन, उनके सिवा
नः - हमारे या हमें
प्रचोदयात् - देने का आग्रह