» फल नियम
 

 

जो भाव अपने स्वामी से या शुभग्रहों से युक्त अथवा द्रष्ट होता है, उस भाव की वृद्धि तथा पापीग्रहों से युक्त अथवा द्रष्ट होने पर उस भाव की हानि होती है |
 
सौम्य राशि लग्न में हो तो कार्यसिद्धि होती है |
 
क्रूर लग्नयुक्त ग्रह हो, तो कार्य पूर्ण होने में विलम्ब समझना चाहिए | 
 
लग्न को लग्नेश न देखकर शुभग्रह देखे, तो चौथाई योग समझना चाहिए |
 
लग्नेश को शुभ ग्रह देखे और कार्यसिद्धि योग उनमें न हो, तो आधा योग माना जायेगा |
 
एक शुभ ग्रह लग्न या लग्नेश को देखे, तो जातक की कार्यसिद्धि अवश्य होती है |
 
लग्नेश को दो या तीन शुभग्रह देखते हों, तो ऐसा योग त्रिभागोंन कहलाता है और कार्यसिद्धि करता है |
 
पापग्रह दृष्टिरहित चन्द्रमा और शुभग्रह लग्न तथा लग्नेश को देखे, तो पूर्ण कार्यसिद्धि का योग समझना चाहिए |
 
कार्य से सम्बन्धित भाव का स्वामी पापग्रहयुक्त या दृष्ट हो, तो कार्यंनाश समझना चाहिए |