Fasts
» Half-monthly
» Monthly
» Other
» Weekly
» Yearly
 
 
Papmochni Ekadashi (पापमोचनी एकादशी)

यह एकादशी पापमोचनी एकादशी कहलाती है। अर्थात पाप को नष्ट करने वाली एकादशी। पुराणों के अनुसार चैत्र कृष्ण पक्ष की एकादशी पाप मोचिनी है। एकादशी के दिन सूर्योदय काल में स्नान करके व्रत का संकल्प करें। इस दिन भगवान विष्णु को अर्ध्य दान देकर षोडशोतपचार पूजा करनी चाहिए। तत्पश्चात धूप, दीपचंदन आदि से नीराजन करना चाहिए। इस दिन निंदित कर्म तथा मिथ्या भाषण नहीं करना चाहिए। एकादशी के दिन भिक्षुक, बन्धु-बान्धव तथा ब्राह्मणों को भोजन दान देना फलदायी होता है। इस व्रत के करने से समस्त पापों का नाश होता है और सुख-समृद्धि प्राप्त होती है। एकादशी तिथि को जागरण करने से कई गुणा पुण्य मिलता है अत: रात्रि में भी निराहार रहकर भजन कीर्तन करते हुए जागरण करें। जैसा कि इसके नाम से स्पष्ट है इस व्रत को करने से ब्रह्महत्या, स्वर्णचोरी, मद्यपान, अहिंसा, अगम्यागमन, भ्रूणघात आदि अनेकानेक घोर पापों के दोषों से मुक्ति मिल जाती है।

Vishnu Ji Photos
Other Related Detail
» Papmochani Ekadasi Vrat Vidhi (पापमोचनी व्रत विधि)
» Papmochani Ekadashi Vrat Katha (पापमोचनी एकादशी व्रत कथा)