» विवाह के उपाय-Remedies to avoid late Marriage
 

 

समय पर अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने की इ� ��्छा के कारण माता-पिता व भावी वर-वधू भी चाहते है कि अनुकुल � ��मय पर ही विवाह हो जायें. कुण्डली में विवाह विलम्ब से होने � ��े योग होने पर विवाह की बात बार-बार प्रयास करने पर भी कहीं � ��नती नहीं है. इस प्रकार की स्थिति होने पर शीघ्र विवाह के उप� ��य करने हितकारी रहते है. उपाय करने से शीघ्र विवाह के मार्� �� बनते है. तथा विवाह के मार्ग की बाधाएं दूर होती है.
 
उपाय करते समय ध्यान में रखने योग्य बातें (Precautions while doing Jyotish remedies)
 
’ 1. किसी भी उपाय को करते समय, � ��्यक्ति के मन में यही विचार होना चाहिए, कि वह जो भी उपाय कर र� ��ा है, वह ईश्वरीय कृ्पा से अवश्य ही शुभ फल देगा.
 
’ 2. सभी उपाय पूर्णतरू सात्विक है तथा इनसे किसी के � ��हित करने का विचार नहीं है.
 
’ 3. उपाय कर� ��े समय उपाय पर होने वाले व्ययों को लेकर चिन्तित नहीं होना � ��ाहिए.
 
’ 4. उपाय से संबन्धित गोपनीयता र� ��ना हितकारी होता है.
 
’ 5. यह मान कर चलना � ��ाहिए, कि श्रद्धा व विश्वास से सभी कामनाएं पूर्ण होती है.
 
आईये शीघ्र विवाह के उपायों को समझने का � ��्रयास करें (Remedies for a late marriage)
 
1. हल्दी के प्रयोग से उपाय:-
विवाह योग लोगों को शीघ्र विवाह के लिये प� ��रत्येक गुरुवार को नहाने वाले पानी में एक चुटकी हल्दी डाल� ��र स्नान करना चाहिए. भोजन में केसर का सेवन करने से विवाह श� ��घ्र होने की संभावनाएं बनती है.
 
2. पीला व� ��्त्र धारण करना:-
ऎसे व्यक्ति को सदैव शरीर पर कोई भी एक पीला वस्त्र धारण करके रखना चाहिए.
 
3. � ��ृ्द्धो का सम्मान करना:-
उपाय करने वाले व्यक्ति को कभी भी अपने से बडों व वृ्द्धों का अपमान नहीं करना चाहिए.
 
4. गाय को रोटी देना:-
जिन व्यक्ति� ��ों को शीघ्र विवाह की कामना हों उन्हें गुरुवार को गाय को दो � ��टे के पेडे पर थोडी हल्दी लगाकर खिलाना चाहिए. तथा इसके साथ ही थोडा सा गुड व चने की पीली दाल का भोग गाय को लगाना शुभ हो� �ा है.
 
इसके अलावा शीघ्र विवाह के लिये � ��क प्रयोग भी किया जा सकता है. यह प्रयोग शुक्ल पक्ष के प्रथम ग� ��रुवार को किया जाता है. इस प्रयोग में गुरुवार की शाम को पां� �� प्रकार की मिठाई, हरी ईलायची का जोडा तथा शुद्ध घी के दीपक � ��े साथ जल अर्पित करना चाहिये. यह प्रयोग लगातार तीन गुरुव� ��र को करना चाहिए.
 
6. केले के वृ्क्ष की पूज� ��:-
गुरुवार को केले के वृ्क्ष के सामने गुरु के 108 ना� ��ों का उच्चारण करने के साथ शुद्ध घी का दीपक जलाना चाहिए. अ� ��ा जल भी अर्पित करना चाहिए.
 
7. सूखे नारिय� �� से उपाय:-
एक अन्य उपाय के रुप में सोमवार की रात्रि � ��े 12 बजे के बाद कुछ भी ग्रहण नहीं किया जाता, इस उपाय के लिये जल भी ग्रहण नहीं किया जाता. इस उपाय को करने के लिये अगले � ��िन मंगलवार को प्रातरू सूर्योदय काल में एक सूखा नारियल लें, सूखे नारियल में चाकू की सहायता से एक इंच लम्बा छेद किया ज� ��ता है. अब इस छेद में 300 ग्राम बूरा (चीनी पाऊडर) तथा 11 रुपये का पंचमेवा मिलाकर नारियल को भर दिया जाता है.
 
यह कार्य करने के बाद इस नारियल को पीपल के पेड के नीचे ग� ��्डा करके दबा देना. इसके बाद गड्डे को मिट्टी से भर देना है. � �था कोई पत्थर भी उसके ऊपर रख देना चाहिए.
 
य� �� क्रिया लगातार 7 मंगलवार करने से व्यक्ति को लाभ प्राप्त ह� ��ता है. यह ध्यान रखना है कि सोमवार की रात 12 बजे के बाद कुछ भी � ��्रहण नहीं करना है.