» जमींदारी योग
 

 

चौथे घर का मालिक दशम मे तथा दशमेश चतुर्थ मे हो |
 
चतुर्थेश, २ या ११वें स्थान पर हो |
 
चतुर्थेश, दशमेश और चन्द्रमा बलवान हों तथा परस्पर मित्र हों |
 
पंचमेश लग्न मे हो |
 
सप्तमेश, नवमेश तथा एकादशेश लग्न मे हों |