|| SHRI BHAROV CHALISA-श्री भैरव चालीसा ||
 

 

॥ दोहा ॥
 
श्री गणपति, गुरु गौरि पद, प्रेम सहित धरि माथ ।
चालीसा वन्दन करों, श्री शिव भैरवनाथ ॥
 
श्री भैरव संकट हरण, मंगल करण कृपाल ।
श्याम वरण विकराल वपु, लोचन लाल विशाल ॥
 
 
|| चौपाई ||
 
जय जय श्री काली के लाला । जयति जयति काशी-कुतवाला ॥
 
जयति बटुक भैरव जय हारी । जयति काल भैरव बलकारी ॥
 
जयति सर्व भैरव विख्याता । जयति नाथ भैरव सुखदाता ॥
 
भैरव रुप कियो शिव धारण । भव के भार उतारण कारण ॥
 
भैरव रव सुन है भय दूरी । सब विधि होय कामना पूरी ॥
 
शेष महेश आदि गुण गायो । काशी-कोतवाल कहलायो ॥
 
जटाजूट सिर चन्द्र विराजत । बाला, मुकुट, बिजायठ साजत ॥
 
कटि करधनी घुंघरु बाजत । दर्शन करत सकल भय भाजत ॥
 
जीवन दान दास को दीन्हो । कीन्हो कृपा नाथ तब चीन्हो ॥
 
वसि रसना बनि सारद-काली । दीन्यो वर राख्यो मम लाली ॥
 
धन्य धन्य भैरव भय भंजन । जय मनरंजन खल दल भंजन ॥
 
कर त्रिशूल डमरु शुचि कोड़ा । कृपा कटाक्ष सुयश नहिं थोड़ा ॥
 
जो भैरव निर्भय गुण गावत । अष्टसिद्घि नवनिधि फल पावत ॥
 
रुप विशाल कठिन दुख मोचन । क्रोध कराल लाल दुहुं लोचन ॥
 
अगणित भूत प्रेत संग डोलत । बं बं बं शिव बं बं बोतल ॥
 
रुद्रकाय काली के लाला । महा कालहू के हो काला ॥
 
बटुक नाथ हो काल गंभीरा । श्वेत, रक्त अरु श्याम शरीरा ॥
 
करत तीनहू रुप प्रकाशा । भरत सुभक्तन कहं शुभ आशा ॥
 
रत्न जड़ित कंचन सिंहासन । व्याघ्र चर्म शुचि नर्म सुआनन ॥
 
तुमहि जाई काशिहिं जन ध्यावहिं । विश्वनाथ कहं दर्शन पावहिं ॥
 
जय प्रभु संहारक सुनन्द जय । जय उन्नत हर उमानन्द जय ॥
 
भीम त्रिलोकन स्वान साथ जय । बैजनाथ श्री जगतनाथ जय ॥
 
महाभीम भीषण शरीर जय । रुद्र त्र्यम्बक धीर वीर जय ॥
 
अश्वनाथ जय प्रेतनाथ जय । श्वानारुढ़ सयचन्द्र नाथ जय ॥
 
निमिष दिगम्बर चक्रनाथ जय । गहत अनाथन नाथ हाथ जय ॥
 
त्रेशलेश भूतेश चन्द्र जय । क्रोध वत्स अमरेश नन्द जय ॥
 
श्री वामन नकुलेश चण्ड जय । कृत्याऊ कीरति प्रचण्ड जय ॥
 
रुद्र बटुक क्रोधेश काल धर । चक्र तुण्ड दश पाणिव्याल धर ॥
 
करि मद पान शम्भु गुणगावत । चौंसठ योगिन संग नचावत ।
 
करत कृपा जन पर बहु ढंगा । काशी कोतवाल अड़बंगा ॥
 
देयं काल भैरव जब सोटा । नसै पाप मोटा से मोटा ॥
 
जाकर निर्मल होय शरीरा। मिटै सकल संकट भव पीरा ॥
 
श्री भैरव भूतों के राजा । बाधा हरत करत शुभ काजा ॥
 
ऐलादी के दुःख निवारयो । सदा कृपा करि काज सम्हारयो ॥
 
सुन्दरदास सहित अनुरागा । श्री दुर्वासा निकट प्रयागा ॥
 
श्री भैरव जी की जय लेख्यो । सकल कामना पूरण देख्यो ॥
 
 
॥ दोहा ॥
 
जय जय जय भैरव बटुक, स्वामी संकट टार ।
कृपा दास पर कीजिये, शंकर के अवतार ॥
 
जो यह चालीसा पढ़े, प्रेम सहित सत बार ।
उस घर सर्वानन्द हों, वैभव बड़े अपार ॥
 
 
|| इति श्री भैरव चालीसा समाप्त ||